• मध्य प्रदेश होमगार्ड्स, नागरिक सुरक्षा एवं आपदा प्रबंधन

कर्तव्य

मध्यप्रदेश प्रान्त एवं बरार होमगार्डस् अधिनियम 1947 की धारा 7 (1) के प्रावधानानुसार प्रत्येक होमगार्ड अपने प्रशिक्षण एवं आरक्षित सेवाकाल में व्यक्ति की रक्षा, सम्पत्ति की सुरक्षा एवं जन सुरक्षा और जन कल्याण के किसी भी कार्य में सहायता से संबंधित निर्धारित कर्तव्यों का पालन करेगा । उपरोक्त के संबंध में बनाए गए नियमों के अधीन प्रत्येक होमगार्ड का यह कर्तव्य होगा कि वह किसी भी सक्षम अधिकारी व्दारा जारी की गई सभी आज्ञाओ का शीघ्रता से पालन कर एवं कार्यान्वित करे, जन सुरक्षा को प्रभावित करने वाले समाचारों को इकट्ठा कर अपने से तुरन्त उच्च अधिकारी को पहुॅचावे और व्यक्ति अथवा सम्पत्ति के विरूद्व अपराधों को किये जाने की रोकथाम करे। (धारा 7 (1) (अ))।

महानिर्देशक नागरिक सुरक्षा (होमगार्ड), केन्द्रीय गृह मंत्रालय, भारत शासन के परिपत्र VI-14021/15/79-DGCD (HG) दिनांक 11-07-79 में होमगार्डस् के संशोधित कार्य निष्पादन को निम्नानुसार रेखांकित किया गया है:

  • 1. पुलिस के सहायक बल के रूप में कानून व्यवस्था बनाए रखना ।
  • 2. किसी भी स्वरूप के आपातकाल जैसे हवाई हमला, आगजनी, बाढ, भूकम्प, महामारी आदि के दौरान प्रशासन की सहायता करना तथा जान-माल की रक्षा करना ।
  • 3. संाप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देना तथा समाज के कमजोर वर्ग की सुरक्षा में प्रशासन को सहायता पहुॅचाना ।
  • 4. ग्राम सुधार व लोक कल्याणकारी कार्यो के व्दारा जनता से निकटता स्थापित कर प्रशासनिक सहयोग प्रदान करना ।
  • 5. महत्वपूर्ण व्यक्तियों की सुरक्षा ।